“मेरी इंदौर यात्रा” भाग-2 (मनोगुरु)

हाँ तो बात कहाँ तक पहुँची थी कि मैं उस इकलौते डिब्बे का कुमार विश्वास था मानो , फिर धीरे -धीरे सबने अपना-अपना हुनर दिखाना शुरू कर दिया |कोई हसा रहा था तो कोई मेरी ही तरह अपनी कविताओ को पेश करने लगा | तभी एक शख्स ने, अरे…! उम्मीदवार ने ही अपनी कलाकारी को मेरी नज़रो के सामने रख दिया , जिस पर मेरी निगाहे भी टिक गयी |नाम तो आज भी याद है ओर हाँ होगा भी क्यूँ नहीं जब वो हूबहू किसी भी शक्ल या भाव को पन्नो पर उकेर देता है |नाम है हेमंत अवस्थी, जी हाँ वही हेमंत जिसका ज़िक्र मैं अपनी फ़ेसबुक प्रोफाइल पर कुछ रोज पहले ही कर चुका हूँ | एक के बाद एक मंत्रमुग्ध करने वाली चित्रकारी को वो दिखाए जा रहा था और चित्र भी दिल में उतरते जा रहे थे | देर ना करते हुए मैने उसका नंबर लिया और फ़ेसबुक पर भी जोड़ दिया तुरंत | फिर गपशप हुई काफ़ी और एक दूसरे को बारीकी से जाना भी |सफ़र तो अभी भी खड़े होकर ही जारी था पर थकावट मंज़िल की तरह कोसों दूर |हँसी मज़ाक का सिलसिला भी जारी रहा और रात बीट भी गयी पता ही नहीं चला | जागती हुई सुबह हुई तो हम इंदौर रेलवे स्टेशन पर दस्तक दे चुके थे |फिर कुछ हमसफ़र दोस्तो के साथ नाश्ता हुआ और वो अपनी दिशा में | मैं अपनी राह को चल दिया | रेलगाड़ी में महफ़िल सजाई ही थी मैने तो अंत तक और आज तक उन सबके दिल के करीब भी हूँ| काम ख़त्म करके वापिस उसी मार्ग का दीदार करते हुए और फिर से कुछ नये दोस्तों से मुखातिब होता हुआ में घर आ गया | आज भी हेमंत से बात होती है इसी जुक्करबर्ग भैया की फ़ेसबुक से और उसके स्केच भी देखता हूँ| बस ऊपर वाले से यही कामना करता हूँ कि सभी खुश रहें व हुनर को बरकरार रखें |
अब इतना सब कुछ सुनकर आपके मन में भी आ गया होगा कि भाई चलो हम भी तो देखें कि आख़िर ऐसा क्या ख़ास है हेमंत में , अरे परेशान मत होइए और नीचे लिंक के माध्यम से आप भी देखिए इस हुनरबाज को…… –

-मनोगुरु https://www.facebook.com/abhishekmanoguru/

Name : Hemant Awasthi ( https://www.facebook.com/profile.php?id=100008040256152)

https://hemieu.blogspot.in

Courtesy : Manoguru https://www.facebook.com/abhishektripathi.anshu

“मेरी इंदौर यात्रा” भाग-१ (मनोगुरु)

Manoguru

Hey...! My name is Abhishek Tripathi and pen name "Manoguru". Thanks a lot to be a member of my life by my these startups. I hope that you are easily understand me and my aim to change something in everyone. You know that -" Nobody can do everything but Everybody can do something". so activate your inner powers, talent, sensitivity , sincerity etc. Be a helping human... keep connected....... thanks again

2 thoughts on ““मेरी इंदौर यात्रा” भाग-2 (मनोगुरु)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *