सिर्फ तुम “मेरी माँ”— मनोगुरू

Only for you माँ…..

ये चंद पंक्तियाँ उसको भी,
जिसने हम सबको जन्म दिया |

सहकर उस गहरी पीड़ा को,
कर पालन पोषण बड़ा किया |

इस माँ की महिमा है अपार ,
जिसका संरक्षण पाकर मैं जिया |

नयनों , धड़कन में बस मैं हूँ ,
ख्वाबों , जीवन में बसता हूँ |

हम पर उसके अरमान टिके,
हाँ तभी मुझे बस वही दिखे |

हो सुख या विपदा में साथ रहे ,
अपनी तकलीफ स्वत: वो सहे |

हूँ बेशक बेकार जमाने को ,
वो कर तारीफ , शरीफ कहे |

चरणों में जिसके है जन्नत,
आशीष से पूरी हर मन्नत |

है एक शख्सियत स्रष्टि में,
संपूर्ण विश्व जिसे “माँ” ही कहे ।

हर पल ममता की धार बहे ,
ये पुत्र भी माँ को नमन करे….|

अभिषेक ‘मनोगुरू’

Dedicated to every mother….

Follow writer’s writeups on Facebook profile – https://www.facebook.com/abhishektripathi.anshu

:-all copyrights are reserved to the respected writer. Using any writeup without permission is highly prohibited.

Courtesy :” manoguru “( https://www.facebook.com/abhishekmanoguru/ )

Manoguru

Hey...! My name is Abhishek Tripathi and pen name "Manoguru". Thanks a lot to be a member of my life by my these startups. I hope that you are easily understand me and my aim to change something in everyone. You know that -" Nobody can do everything but Everybody can do something". so activate your inner powers, talent, sensitivity , sincerity etc. Be a helping human... keep connected....... thanks again

5 thoughts on “सिर्फ तुम “मेरी माँ”— मनोगुरू

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *