Havoc of humanity in Syria

ज़ालिमों का कहर देखो सीरिया मे
इंसानियत का हशर देखो सीरिया मे

ظالموں کا قہر دیکھوسیریامیں
انسانیت کا حشر دیکھو سیریا میں

ये बमबारी ये चीख़ें ये लाशों का ढेर
तबाही का मंजर देखो सीरिया मे

یہ بمباری یہ چیخیں یہ لاشوں کا ڈھیر
تباہی کا منظر دیکھو سیریا میں

लोग कहते हैं कयामत आने वाली है
कयामत का असर देखो सीरिया मे

لوگ کہتے ہیں قیامت آنے والی ہے
قیامت کا اثر دیکھو سیریا میں

दुनिया की पंचायत तमाशायी बनी
नफरतों का ज़हर देखो सीरिया मे

دنیا کی پنچایت تماشائی بنی
نفرتوں کا زہر دیکھو سیریا میں

रब से फरियाद है भेजे मेहदी ईसा को
है दुनिया बेखबर देखो सीरिया मे

رب سے فریاد ہے بھیجے مہدی عیسا کو
ہے دنیا بے خبر دیکھو سیریا میں

जिस शाख पे बैठे हैं वही काट रहे हैं
इस देश को दीमक की तरह चाट रहे है

दावा है रहबरी का मगर खुद ही राह गुम
सनकी हैं ये लोगों में सनक बाँट रहे हैं

बाहर भी जमा घर भी जमा फिर भी ये हवस
दिन रात गरीबों का लहू चाट रहे हैं

मखमल के गलीचों पे इन्हें नींद नही आती
बिस्तर की जगह जिनके घर में टाट रहे हैं

है उम्र गुजरने को कुछ भी न किया मैंने
इस जिस्म के दरिया को फकत पाट रहे हैं

कल तु कहाँ था आज कहाँ है
पंछी तेरी परवाज़ कहाँ है

सौ दो सौ मीलों की दूरी
तय करती आवाज कहाँ है

दुश्मन को भी दोस्त बनाना
वो तेरा अंदाज़ कहाँ है

नीव था अहदो वफा का तू ही
वह तेरा एजाज़ कहाँ है

इल्मो हुनर को बाँटने वाले
सर का तेरे ताज कहाँ है

जिस धुन पर ये दुनिया नाचे
वो आवाजो साज कहाँ है

इस मिसरे पर एक कोशिश

सुबह होती है शाम होती है
दिल की हसरत तमाम होती है

मौज तो ले गए पैसे वाले
गो कि गुरबत गुलाम होती है

ज़ुबाँ तो खुलते खुलते खुलती है
आँख दिल का पयाम होती है

जवान हो गई लड़की जिसकी
नींद उसकी हराम होती है

जिसमें दो शै समा नहीं सकती
क़ल्ब होता है न्याम होती है

Author’s Profile : Shayar Gorakhpuri

Follow writer’s writeups on Facebook profile – Shayar Gorakhpuri (https://www.facebook.com/shayar.gorakhpuri.9)

:-all copyrights are reserved to the respected writer. Using any writeup without permission is highly prohibited.

Courtesy :” manoguru “( https://www.facebook.com/abhishekmanoguru/ )

“नव्या”- एक खत तुम्हारे नाम part 1

वो आज भी जिंदा हैं…

Manoguru

Hey...! My name is Abhishek Tripathi and pen name "Manoguru". Thanks a lot to be a member of my life by my these startups. I hope that you are easily understand me and my aim to change something in everyone. You know that -" Nobody can do everything but Everybody can do something". so activate your inner powers, talent, sensitivity , sincerity etc. Be a helping human... keep connected....... thanks again

One thought on “Havoc of humanity in Syria

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *