तू इतना खुश कैसे है..? – दुष्यंत प्रबल तिवारी

तू इतना खुश कैसे है, इतना खुश भी कोई होता हैं क्या ? आँसू भी खुशियों के आते, सच बतला कोई धोखा है क्या ? सब के सब , सारे के सारे तारीफ तेरी क्यूँ करते है, सारी कमियाँ छिपलाने वाला, कोई तेरे पास मुखोटा है क्या ? और ग़म को दिल में जगह नहीं हैं, तो मेरी सारी खुशियाँ रख ले , रो-रो के दिल भर लेती हैं , इतना दिल तेरा छोटा हैं…

"तू इतना खुश कैसे है..? – दुष्यंत प्रबल तिवारी"

Change of image’s season -” Sourabh Shandilya “

चलने लगी है हवाएँ, सागर भी लहराये ——————————————————————– अभिजीत से हमारा राब्ता इसी गाने से हुआ था । उस दौर में एल्बम का बङा क्रेज़ था और उसमें अभिजीत सबसे फिट बैठते थे । इस गाने को हमने सीडी पर तब देखा था जब हमारे बङे भाई लोंगो के किताबों में रवीना , ऐश्वर्या, माधुरी राज करती थी । और अपने क्रश को वे लोग मोटे – मोटे किताबों के बीचों बीच दबा के रखते…

"Change of image’s season -” Sourabh Shandilya “"

“One dream it was…” by Mohit Sharma

A mask of a mask , a face of a face An angel dancing with the demon’s grace On the song of god , sung by sinners Chasing the losers , denying the winners Aah ! you wonderful face of pride You fighter unknown , you wings of flight Betray ! Betray ! This world insane , Let’s restart this senseless game……! Mohit Sharma One dream it was… just a little dream Of having a…

"“One dream it was…” by Mohit Sharma"

गुनहगार हूं मैं (” मीरा श्रीवास्तव “)

प्यार करना गुनाह है तो गुनहगार हूं मैं सबको अपना समझना गुनाह है तो गुनहगार हूं मैं अपनों पर विश्वास करना गुनाह है तो गुनहगार हूं मै अपनो से अपने पन की प्यार मोहब्बत की छोटी छोटी खुशियों की चाहत रखना गुनाह है तो गुनहगार हूं मैं, गुनाहों की सज़ा अपने ही मुझे खूब दे रहे हैं हम जिनसे करते हैं प्यार हमें नज़र अंदाज़ कर रहे हैं, नफ़रत के नश्तर हर पल चुभो रहें…

"गुनहगार हूं मैं (” मीरा श्रीवास्तव “)"

●मै नारी हूं● ( केशव पाल )

*●मै नारी हूं●* हर जुर्म सहती हूं। फिर भी न कुछ कहती हूं। मत बांधों बेड़ियों मे,अकेले ही चलने दो। होके उन्मुक्त मुझे भी जीने दो।। संघर्ष करती जिंदगी से,मै वो नारी हूं। हरदम जीती हूं, कभी नहीं हारी हूं। चहारदीवारी की जंजीरें, अब तो तोड़ने दो। होके उन्मुक्त मुझे भी जीने दो। मत सोचो कमजोर हूं, इतिहास बदल सकती हूं। जिस दिन तोड़ दूंगी, खामोशी अपनी धरती क्या आकाश बदल सकती हूं। कब तक…

"●मै नारी हूं● ( केशव पाल )"

The Glorious history of International Women Day

क्या है अंतर्राष्ट्रीय स्त्री दिवस (8 मार्च) का गौरवशाली इतिहास: यह एक त्रासदी है कि पूंजी की ताकत के ख़िलाफ़ मेहनतकश स्त्रियों के संघर्षों के परिणामस्वरूप उपजे 8 मार्च को आज बाज़ार की ताकतें co-opt करके एक जुझारू क्रांतिकारी विरासत को कलंकित कर रही है. वह 8 मार्च को भी एक माल के रूप में बेच रही है. Women Empowerment के नाम पर बड़ी-बड़ी कंपनियों की CEO, अधिकारयों (जो खुद मेहनतकशों के शोषण में भूमिका…

"The Glorious history of International Women Day"

Lenin and Russian Revolution

उनके लिए जो अपना पाला नहीं तय कर पा रहे… दोस्तों, आज आपने अचानक फ़ेसबुक पर लेनिन नाम के शख्स के बारे में सुना, जिसे बहुत से लोगों ने विदेशी और ‘कौमी’ जैसे विशेषणों से नवाज़ा और बहुत सारी गालियाँ भी बकी गईं. वहीं एक और खेमा है जो उन्हें सर्वहारा वर्ग और रूसी क्रांति का नायक – महान लेनिन कह रहा है. आप दुविधा में हैं कि कौन सही है, कौन ग़लत! पर इतना…

"Lenin and Russian Revolution"

Truth on the bitter

कडवा है पर सत्य है । एक बार जरूर पढ़ना । …नीलामे दो दीनार….. “जबरदस्ती का भाईचारा ढोते हिंदुओं अपना इतिहास तो देखो…………….. … समयकाल.. ईसा के बाद की ग्यारहवीं सदी.. भारत अपनी पश्चिमोत्तर सीमा पर अभी-अभी ही राजा जयपाल की पराजय हुई थी … इस पराजय के तुरंत पश्चात का अफगानिस्तान के एक शहर….. गजनी का एक बाज़ार..! ऊंचे से एक चबूतरे पर खड़ी कम उम्र की सैंकड़ों हिन्दु स्त्रियों की भीड .. जिनके…

"Truth on the bitter"

“मेरी प्यारी गौरैया” ~~( राघव शंकर )~~

मेरी प्यारी गौरैया!   जब मैं भरी दोपहर में स्कूल से लौट कर घर आता,तो बाहर लगे नल को चला कर हाथ पैर धोता और फिर वहीं लगे नींबू के पेड़ के नीचे जो कि ज्यादा फल आने से झुक गया था और एक छतरी के जैसा बन गया था, उसी के नीचे दादा जी के आराम करने के लिए पड़ी खाट पर लेट जाता थोड़ी देर आराम करने के लिए। पेड़ के नीचे की…

"“मेरी प्यारी गौरैया” ~~( राघव शंकर )~~"

Kingfisher And Wild life Photography

एक दिलचस्प वाक़िआ- __________________ किंगफ़िशर नाम की इस चिड़िया का यह परफ़ेक्ट शॉट लिया है वाइल्ड लाइफ़ फोटो ग्राफर ‘एलन मॅक फ़ेडिन’ ने. जी किंगफ़िशर वही किंगफ़िशर जिसकी तस्वीर आपने बियर की बोतल और हवाई जहाज़ में बनी देखी होगी. वही किंगफ़िशर जिसका मालिक देश को चकमा देकर लगभग नौ हज़ार करोड़ रुपये लूट के भाग गया. दरअस्ल ये चिड़िया भी विजय माल्या की ही तरह चालाक और शातिर है. किंगफ़िशर लगभग गोली की रफ़्तार…

"Kingfisher And Wild life Photography"

धर्म के नाम पर गुमराह – (मानस कुमार देव)-

– मानस कुमार देव –   बेखबर कब तक रहोगे जमाने से, खुद में ही ऐसे कब तक सिमटे रहोगे, खिड़कियां-दरवाजे खोलकर तो देखो, तेरे दर पर भी दस्तक दे रहा है धुआं, कब तलक खुद को छिपाये रखोगे, जंजीर गुलामी की बढ़ती जा रही है, इस बात को कब तलक समझ जाओगे, द्वेष जो फैलाया जा रहा धर्म पर, कब तलक आँखें बन्द करके चलते रहोगे, गर अभी समझ जाते हो सारी बातें, जान…

"धर्म के नाम पर गुमराह – (मानस कुमार देव)-"