“शायद तुम गलत हो”- अंकित त्रिपाठी

*शायद गलत हो तुम *

* अगर तुम्हें लगता है कि – हर पल सिर्फ उसके बारे में सोचना ही मोहब्बत है – तो, शायद गलत हो तुम !

*अगर तुम्हें लगता है- सारी रात जग कर उससे बातें करना ही मोहब्बत है -तो, शायद गलत हो तुम !

*अगर तुम्हें लगता है- कि चंद बेवाक् कसमें और वादे कर देना ही मोहब्बत है – तो शायद गलत हो तुम !

*अगर तुम्हें लगता है कि- उसकी खातिर तुम कुछ भी कर सकते हो, यही मोहब्बत है तो-शायद गलत हो तुम !

*अगर तुम्हें लगता है कि- रात को सोने से पहले और सुबह जगते ही सबसे पहले उसे फोन करके अपने एहसास बयाँ करना ही मोहब्बत है तो- शायद गलत हो तुम !

*अगर तुम्हें लगता है कि – रोज उससे अपने दिल की बात कहना और उसका हमदर्दी रखना ही मोहब्बत है तो- शायद गलत हो तुम !

*अगर तुम्हें लगता है कि- किसी परेशानी में उसके साथ होना ही मोहब्बत है तो – शायद गलत हो तुम !

*अगर तुम्हें लगता है कि -वो कभी तुम्हें छोड़ कर नहीं जाएगा, हमेशा साथ रहेगा यही मोहब्बत है तो – शायद गलत हो तुम !

– Ankit Tripathi

Manoguru

Hey...! My name is Abhishek Tripathi and pen name "Manoguru". Thanks a lot to be a member of my life by my these startups. I hope that you are easily understand me and my aim to change something in everyone. You know that -" Nobody can do everything but Everybody can do something". so activate your inner powers, talent, sensitivity , sincerity etc. Be a helping human... keep connected....... thanks again

2 thoughts on ““शायद तुम गलत हो”- अंकित त्रिपाठी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *