तू इतना खुश कैसे है..? – दुष्यंत प्रबल तिवारी

तू इतना खुश कैसे है, इतना खुश भी कोई होता हैं क्या ? आँसू भी खुशियों के आते, सच बतला कोई धोखा है क्या ? सब के सब , सारे के सारे तारीफ तेरी क्यूँ करते है, सारी कमियाँ छिपलाने वाला, कोई तेरे पास मुखोटा है क्या ? और ग़म को दिल में जगह नहीं हैं, तो मेरी सारी खुशियाँ रख ले , रो-रो के दिल भर लेती हैं , इतना दिल तेरा छोटा हैं … Continue reading तू इतना खुश कैसे है..? – दुष्यंत प्रबल तिवारी