महफिल – ए – शायरी ( 2 )

– मनोगुरू + Shailendra verma(Shayar)

Shailendr verma (शायर)

अाते आते आएगा दिल को करार
जाते जाते ही बेकरारी जाएगी

मनोगुरू(Dark.Days.Diary)

ये खुमार-ए-इश्क है साहब…!
अब शायद ना बीमारी जाएगी,
कहते हो…! तो करता हूँ चैन से करार
पर वक्त रहते बेकरारी तो जाएगी
हूँ जमीं पे, तब तलक शायरबाजी ही भाएगी

 

– मनोगुरू + @sakshi jain

@Sakshi jain

तूफान है मेरे अन्दर ,
बुझने दूँ कैसे भला…..
+
मनोगुरू @dark days diary

लहराता समन्दर है अन्दर,
ठहरूँ अब कैसे भला….

 

– मनोगुरू + @muskan saxena

@muskan saxena

मैं कैसे मिटा दूँ खुद पर से निशां उसके
कि मेरी तो रूह पर भी उसके इश्क की नक्काशी है
+
@dark days diary
माना कि
ना मिटे हैं शायद निशान उसके,
गर रूह में कुछ बाकी उदासी है……
पर
हाँ….मिटा दे अब तू भी निशान उसके,
इश्क और तू खुद , अब ना अरमान जिसके

 

शायरबाजी चुनिंदा लेखकों की मनोगुरू संग कल आप भी महफिल में दर्ज हो सकते हैं…

– मनोगुरू + @sakshi jain + @muskan saxena + Shailendra verma (Shayar)

Follow writer’s writeups on Facebook profile – https://www.facebook.com/abhishektripathi.anshu

 :-all copyrights are reserved to the respected writer. Using any writeup without permission is highly prohibited.

Courtesy :” manoguru “(  https://www.facebook.com/abhishekmanoguru/

 

 

महफिल – ए – शायरी ( 1 )

 

“मैं तुम और हम” —कवि अंकित

Manoguru

Hey...! My name is Abhishek Tripathi and pen name "Manoguru". Thanks a lot to be a member of my life by my these startups. I hope that you are easily understand me and my aim to change something in everyone. You know that -" Nobody can do everything but Everybody can do something". so activate your inner powers, talent, sensitivity , sincerity etc. Be a helping human... keep connected....... thanks again

8 thoughts on “महफिल – ए – शायरी ( 2 )

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *