The Glorious history of International Women Day

क्या है अंतर्राष्ट्रीय स्त्री दिवस (8 मार्च) का गौरवशाली इतिहास:

यह एक त्रासदी है कि पूंजी की ताकत के ख़िलाफ़ मेहनतकश स्त्रियों के संघर्षों के परिणामस्वरूप उपजे 8 मार्च को आज बाज़ार की ताकतें co-opt करके एक जुझारू क्रांतिकारी विरासत को कलंकित कर रही है. वह 8 मार्च को भी एक माल के रूप में बेच रही है. Women Empowerment के नाम पर बड़ी-बड़ी कंपनियों की CEO, अधिकारयों (जो खुद मेहनतकशों के शोषण में भूमिका निभाती हैं) को सम्मानित करके 8 मार्च के गौरवशाली इतिहास को धूमिल करने की कोशिशें बदस्तूर जारी हैं. हमें एक पल के लिए भी नहीं भूलना होगा कि 8 मार्च मेहनतकश स्त्रियों के जुझारू संघर्षों का प्रतीक है. इस प्रतीक को गुलाबी रंग की चौहद्दियों में कैद नहीं किया जाना चाहिए. आखिर यह दिन शुरू ही कैसे हुआ था? वर्ष 1857 में 8 मार्च के दिन अमेरिका के कपडा उद्योग में काम करने वाली मेहनतकश महिलाओं ने काम के घंटे 16 से 10 करने के लिए एक जुझारू प्रदर्शन किया. आधुनिक दुनिया में पूंजी की ऑक्टोपसी जकड़बंदी के खिलाफ शोषित-उत्पीड़ित महिलाओं का यह पहला संगठित आंदोलन था. इसके बाद 1910 में आयोजित समाजवादी स्त्री सम्मलेन में मेहनतकश जनता और स्त्री-मुक्ति संघर्षों की नेता क्लारा जेटकिन ने दुनियाभर की क्रांतिकारी महिलाओं की एकजुटता के प्रतीक के तौर पर 8 मार्च को अंतर्राष्ट्रीय स्त्री दिवस के तौर पर मनाये जाने का आह्वान किया.

तब से लेकर आज तक स्त्रियों ने अपने अधिकारों के लिए कई संगठित लड़ाईयां लड़ी और कई अधिकार भी हासिल किये. खुद हमारे देश में आज़ादी की लड़ाई में स्त्रियों ने बढ़-चढ़कर भागीदारी की. बदलते वक़्त के साथ-साथ महिलाएं कुछ हद तक घरों की चौहद्दियों से बाहर तो निकल आयी पर पूंजीवादी समाज ने उनकी गुलामी और शोषण के लिए नए-नए रूपों का सहारा लिया जहाँ स्त्री एक “माल” के रूप में परोसी जाने लगी. टीवी और सिनेमा में स्त्रियों के शरीर का अश्लील प्रदर्शन, उन पर बनने वाले ”आइटम सांग” और महिलाओं पर बनने वाले गलाज़त भरे अश्लील चुटकलें तो मात्र एक बानगी है. आज बड़े पैमाने पर होने वाले स्त्री-अपराध पूंजीवाद द्वारा स्त्री को “commodity” के रूप में प्रस्तुत करने वाली घटिया संस्कृति और पितृसत्ता के मूल्यों की ही अभिव्यक्ति है. आज महिलाओं की ग़ुलामी के लिए जहाँ एक तरफ पितृसत्ता के मूल्य ज़िम्मेदार हैं, वही दूसरी तरफ पूंजीवाद भी है जिसने स्त्री को एक ”commodity” बना दिया है.

हमें ये समझना होगा कि स्त्रियों की लड़ाई पुरुषों से नहीं बल्कि औरतों को पैर की जूती समझने वाली, उन्हें कमतर समझने वाली पुरुषस्वामित्ववादी मानसिकता से है.

By- Shvaita Kaul

Follow writer’s writeups on Facebook profile – https://www.facebook.com/profile.php?id=100009703511698

:-all copyrights are reserved to the respected writer. Using any writeup without permission is highly prohibited.

Courtesy :” manoguru “( https://www.facebook.com/abhishekmanoguru/ )

What is the glorious history of International Women’s Day (March 8): It is a tragedy that hardworking against the strength of the capital Upaje as a result of the struggles of women are tarnishing a combative revolutionary heritage by co-opt the market forces on March 8 today. He is also selling as a mall on March 8. In the name of Women empowerment, the CEO of big companies, Adhikarayo (who himself plays a role in the exploitation of Mehantaksho) continues Badasatuur to try to tarnish the glorious history of March 8. We will not forget for a moment that March 8 is a symbol of hardworking women’s combative struggles. This symbol should not be imprisoned in the Chauhadadiyo of pink. How did it happen to start the day? On the day of March 8 in the year 1857, hardworking women working in the U.S. textile industry made a combative performance from 16 to 10 working hours. This was the first organized movement of exploited-harassed women against Akatopasi Jakadabadi of capital in the modern world. Conference, the leader of the hardworking public and women’s liberation struggles in the socialist feminine, held in 1910, Clara Jetkin cited the International Women’s Day on March 8 as a symbol of the solidarity of the revolutionary females worldwide.

Since then, women have fought many organized ladaiyas for their rights and achieved many rights. Women in the Battle of freedom in our country have a growing-mounted partnership. With the change of time, women came out to some extent out of the chauhadadiyo of houses, but the capitalist society resorted to new forms for slavery and exploitation where the woman served as a “mall”. The obscene performance of women’s bodies in TV and cinema, the “item song” and the Galajat-filled indecent chutakale that become on the ladies is merely a hallmark. Today is the only expression of shoddy culture and patriarchy values, presented as “commodity” to the woman by rampant female-crime capitalism. For the Slavery of women today, where one side is responsible for the value of the patriarchy, there is also capitalism which has made the woman a “commodity”.

We have to understand that women’s battles are not from men but women with a foot-juti, lower Purusasavamitavadi mindset.

Manoguru

Hey...! My name is Abhishek Tripathi and pen name "Manoguru". Thanks a lot to be a member of my life by my these startups. I hope that you are easily understand me and my aim to change something in everyone. You know that -" Nobody can do everything but Everybody can do something". so activate your inner powers, talent, sensitivity , sincerity etc. Be a helping human... keep connected....... thanks again

One thought on “The Glorious history of International Women Day

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *